Sunday, March 12, 2017

Never easy to be a feminist husband

Last night I walked up to my wife and said,  "Did you read what Mira Rajput said. She wants to be a full time mom. And she has a point." My wife was working on her laptop, probably writing a research paper or a making a presentation. She gave me the look that she gives when I utter bullshit. (I got the same look when I bought a treadmill I never used). Wives just know when their husbands are bullshitting. She just said, "Whatever one does, one shouldn't judge the other."

I, being, a typical husband, ignored her and went out to call my mom. She was complaining how after years of taking care of my dad, she still doesn't get the importance she deserves. She has to beg for even 1000 bucks to him. She is presently staying with my sister who works in HR and is presently on maternity leave. Mom said it was such a good decision to get her daughter educated. At least she has the freedom my mom never had.

I thought about my wife's mother too who often complains that she got nothing for her years of tireless service as a homemaker. She is a great cook and always wanted to run her small eatery business but wasn't allowed. Coz her husband was earning enough.

I am not a feminist. It is difficult for a man to be. But I supported my sister in her MBA and fought with my dad to send her to Pune for Higher studies. I never wanted my wife to sit at home and be a housewife. I have always wished for a daughter and now I am fathering one. I wouldn't like my daughter to be a homemaker as well. Yet I am not a feminist.

I was born and brought up in a chauvinist environment. Although me and my sister studied in the same school, and me and my wife studied in the same college, I was always treated better. The fact that my sister or my wife are successful professionals is mostly due to their own grit and their mother's support. Even now when both my wife and my sister are going through motherhood, their moms are helping them raise their kids so that they don't have to quit their jobs. I have often heard my mom as well as my mom in law say, "It doesn't matter how long I have to take care of your kids, but you must continue working. Or else the man will never treat you well."

They are right. We men have never been taught to treat women equally. When the fact remains that women can do much more than a man. My wife can take care of the house even after her job but I can't. Not that I don't want to, but I am not as good a multitasker as her. My weekend plan is mostly to relax while her weekend plan is to do pending household chores. While she can easily stay away from me without any discomfort, I am totally dependent on her.

But the fault is not entirely of us men. Our mothers are also to blame. When me and my sister were both being educated, she showed interest in cooking and she was allowed to learn it. I showed interest too, but other than few random dishes, I never was asked to cook a whole meal. I am no longer  a cook. My mother in law who takes care of my daughter and our house nowadays always prefers that I get my food on the table and don't have to venture in the kitchen myself. She thinks it would be inappropriate if I have to do some work despite her presence. Men are already lazy beings. And when pampered by such irrational mothers, the laziness gets justified.

I always wanted my sister to work but in all her quarrels with her husband, I have supported her husband. I have always wanted my wife to work, but I constrained her to live in my house and since I am confined to work in one particular state of India, I forced her to quit her assignment in Europe and search for one in this Indian state instead. I have tried to be feminist but I am still a chauvinist. When I allowed my wife to go to Germany, everyone applauded my gesture, as if I had the authority to allow or disallow her. And when I forced her to come back, no one criticized me. Only later did I come to know that both my mother and my mother-in-law supported my wife and not me in that dispute.

Today when I am the father of a daughter, I want her to break all the boundaries of society and sail free wherever she wants. I wanted the same for my sister. I also want the same for my wife. But I still am a chauvinist from within. It is years and years of upbringing in a patriarchal setup that keeps justifying my chauvinist behavior. The justifying of Mira Rajput's comments last evening was my latest such behaviour.

It has taken me one full day and two counter articles to accept that I was wrong. That everytime a woman sits home, she kills the chance of working for ten more women. The economy needs more working women than there are presently. And women need much more education and support than they get. And chauvinists like me need more correction in their mindset. I shall not become a feminist by just supporting my sister or my wife or educating my daughter. I will become one only when I accept that what they go through is tougher than what I have gone through or any man will ever go through. I will become a feminist when I stop glorifying mothers who are great cooks and homemakers and actually glorify women who have made a mark in their professional fields.

But chauvinism and patriarchy don't go in a day. It takes a lot of unlearning of the sick values of supremacy taught to us in childhood. I hope this generation of working women are able to teach their sons to be better husbands and less chauvinists. They should also keep teaching their husbands. I, meanwhile, shall keep trying to correct myself.

Monday, June 20, 2016

रिमार्केबल ज़िद्द

पापा को बोलते हुए पिछले चार बरस से नहीं देखा। 2012 को हुए उस ब्रेन स्ट्रोक ने हमेशा के लिए बोलने की शक्ति खत्म कर दी। स्पीच थेरेपी साल भर के बाद बंद करा दी। हाँ दाहिने हाथ और पैर में काफी सुधार हुआ। पिछले साल जब लीलावती में डॉक्टर ने देखा तो Remarkable Recovery कहे बिना न रह सके। और इस रिमार्केबल रिकवरी के पीछे सिर्फ दवाओं और दुआओं का असर नहीं था; पापा की इच्छाशक्ति और ज़िद का भी बहुत बड़ा योगदान रहा।

स्ट्रोक के वक़्त पापा करीब 90 किलो के थे। इतने भारी मरीज़ को उठाना, बिठाना, चलाना, नहलाना सब मुश्किल होता था। 2 साल पुरानी बात है। छठ का त्यौहार था। पापा छड़ी की मदद से चलना सीख चुके थे। मम्मी पापा के साथ छठ में अर्घ्य देने पास के एक तालाब तक गई। पैदल लौटते वक्त पापा अचानक थक गए। उनके पैर ही न उठे। उन्होंने इशारों में कहा कि अब चला नहीं जाता, कोई गाडी लाओ। मम्मी ने वहीँ से गुज़र रहे किसी कार वाले से मदद मांगी और पापा को घर लाई। लेकिन इसने पापा के स्वाभिमान को ठेस पहुंचाई।

कुछ दिनों बाद सड़क पर चलते वक़्त पापा का एक पैर एक गढ्ढे में चला गया और माँ के देखते देखते पापा सड़क पर गिर गए। मम्मी 90 किलो के उस शरीर को उठाने में असमर्थ रही। पापा भी खुद के भारी शरीर को एक हाथ और एक पैर के सहारे न उठा सके। आस पास गुज़र रहे लोगों की मदद से पापा को खड़ा किया जा सका। लेकिन पापा इस घटना से और भी लज्जित हो गए। माँ ने फरमान जारी कर दिया कि "कोई ज़रुरत नहीं है अब कहीं वाक करने की। इतने भारी हैं कि हम संभाल नहीं सकते आपको। घर बैठे रहिए।"

पापा ने कुछ नहीं कहा। कह भी तो नहीं सकते थे। लेकिन उन्होंने दिन में सिर्फ एक बार भोजन करना शुरू कर दिया। मम्मी को लगा नाराज़ है या दुखी। लेकिन पापा ने ज़िद्द पकड़ ली कि एक बार से ज़्यादा खाना नहीं खाऊंगा। और अपनी पैदल चलने की प्रैक्टिस भी नहीं छोड़ी। लगभग एक साल बाद पापा का लगभग 25 किलो वज़न घट चुका था। पापा की जो तोंद मैंने बचपन से अब तक निरंतर देखी थी, वो गायब हो गयी।
पापा अब अपने हलके शरीर से कम्फ़र्टेबल हो गए। बगैर छड़ी के न सिर्फ चलने लगे बल्कि अब सीढियां चढ़ना उतरना भी आसान होने लगा। जिस ज़िद्द ने पापा को अस्पताल से ज़िंदा बाहर निकाला था उसी ज़िद्द ने पापा को अब इतना फिट कर दिया की ज़मीन पर पड़ा जूता वो खुद झुक कर उठा सकते हैं। उनका आत्मविश्वास और बढ़ गया।

कुछ दिनों पहले एक और घटना हुई। पापा के बोल न पाने की वजह से रोज़ कोई न कोई ड्रामा होता रहता है और अब हम सब को इस डम्ब शराड्स की आदत हो गयी है। हमने बड़ा चाहा कि पापा बाएँ हाथ से लिखकर अपनी बात कह सकें लेकिन 65 की उम्र में आधे दिमाग में एक क्लॉट के साथ ये पापा कर नहीं पाए। एक दिन एक बैंक से मालूम चला कि आपका खाता बंद हो गया है। पापा को बैंक ले जाया गया और खाता चालू हो गया। पापा ने जोश में आकर किसी का एक पेमेंट चेक से कर दिया। साइन की जगह अंगूठे का निशान लगा दिया। पर वो चेक एनकेश नहीं हुआ। बैंक ने कहा कि पापा खुद बैंक आएं, बैंक के किसी अन्य खातेदार को गरंटी के लिए लाएं। इस बीच बैंक के किसी कर्मचारी ने पापा मम्मी को काफी परेशान किया। एक चेक एनकेश होने में 2 घंटे लग गए। पैसे दे तो दिए गए लेकिन वो अंगूठा छाप जैसा ट्रीटमेंट पापा को खटक गया।

मैंने कहा कि बुरा मत मानिए, मैं उस बैंक से आपका खाता बंद करवा दूंगा। मम्मी ने फिर गुस्से से कहा कि "बैठे रहते हैं बाएं हाथ से साइन नहीं कर सकते क्या?" एक बार फिर पापा ने ज़िद्द पकड़ ली। एक पुराना कैंसल चेक मिला उन्हें जिसपर उनके साइन थे। एक नौसिखिये बच्चे की माफिक वे अपने ही साइन की नक़ल करना शुरू करने लगे। जिस बाएं हाथ से 65 बरस में कभी कलम नहीं पकड़ी, उसी बाएं हाथ से अपने ही साइन को सैकड़ों बार कागज़ पर लिखना शुरू कर दिया। समय लगा, लगभग 2 महीने की लगातार प्रैक्टिस के बाद उन्होंने अपने साइन को बाएं हाथ से करना शुरू कर दिया। पर उसके लिए उन्हें वो पुराना चेक और उस पर किया साइन देखना पड़ता।

आज मैं उन्हें लेकर बैंक गया ये सोचकर कि खाता बंद कर दिया जाए। अंगूठा छाप होने की वजह से न तो पापा चेक से काम कर पाते न ही बैंक अंगूठा छाप व्यक्ति को atm कार्ड देने के लिए तैयार था। लेकिन पापा ने कहा (इशारों में) कि चालीस साल से गए बैंक खाता है, इसे बंद नहीं करेंगे। उन्होंने ज़िद्द की कि मैं बैंक वालों को कन्विंस करूँ कि अब वो बाएं हाथ के हस्ताक्षर से खाता चलाएंगे। मैंने भी सोचा बात करने में क्या हर्ज़ है।

मैंने बैंक मेनेजर से पूरी कहानी बताई। उसने ये उपाय बताया कि आप अपने पिता के साथ जॉइंट खातेदार बन जाइए। और फिर आप खाता चलाइये। पापा की कोई ज़रूरत नहीं। पापा ने थोड़ी हिचकिचाहट से बात मान ली। उन्होंने शायद ये मान लिया की कमान बेटे के हाथ में ही दे दी जाए। शायद अब वो खुद सब कुछ करने लायक नहीं रहे। पता नहीं क्यों मुझे उनकी उस मौन स्वीकृति ने थोडा हिला दिया। मैंने बैंक मेनेजर से कहा एक बार आप पापा को बाएं हाथ से साइन करते देख लें। अगर आप कन्विंस न हों तो मैं जॉइंट खातेदार बन जाऊंगा। पापा के चेहरे पर आत्मविश्वास छलक आया। जेब से कलम निकाली, वो कैंसल चेक सामने रखा और अपने साइन की हूबहू नक़ल बाएँ हाथ से एक सादे कागज़ पर कर डाले। बैंक मेनेजर और उनका स्टाफ हतप्रभ पापा को कलम चलाते देखते रहे। बैंक मेनेजर कह पड़ा, Remarkable Improvement. एक बार फिर पापा ने अपनी ज़िद्द से ये रिमार्केबल वाला खिताब पाया।

मैंने एक आखिरी बार मेनेजर से कहा, "मैंने और मेरे परिवार ने बड़ी शिद्दत से इनके खोये आत्मसम्मान को वापस लाने का प्रयास किया है। अगर आज बागडोर बेटे के हाथ में आ गई तो पापा मन से रिटायर्ड महसूस करने लगेंगे। प्लीज आप पापा को ही इस खाते के सभी अधिकार दे दें।" मेनेजर मान गया। उसने एक आवेदन लिखवाया और कहा कि अब इनकी ये बाएं हाथ वाले साइन को ही ऑफिशल साइन मान लेंगे। कल से ये वापस इस खाते को वैसे ही चला पाएंगे जैसे स्ट्रोक के पहले चलाते थे। अब इन्हें एटीएम कार्ड भी जारी कर दिया जाएगा। अब बैंक के लिए ये अंगूठा छाप नहीं हैं।

पापा अपने लौटे स्वाभिमान से हर्षित हैं। लौटते वक्त वो एक मिठाई की दूकान में घुस गए। इशारे इशारे में ही 2-3 किलो मिठाई आर्डर कर डाली और जब उसने 2000 का बिल दिया तो बड़ी शान से बाईं जेब से चार 500 के कड़क नोट निकाले और दे डाले। वैसे ही जैसे हमेशा किया करते थे। मिठाई दूकान वाला भी ऐसे मुस्करा उठा जैसे मन ही मन रिमार्केबल बोल रहा हो।

Monday, June 1, 2015

Opting out of the rat race

I had read or heard somewhere, "Life is a rat race." but I also heard that "Even if you win the rat race, you are still a rat."

Being born in a typical urban indian middle class, rat race is all I have ever known. Getting the first rank in the class. Winning an inter school debate competition. Clearing the IIT JEE, getting a campus placement offer or even becoming an IAS officer, are all manifestations of completing a rat race. Recently the results of board exams for 10th and 12th were declared and I started getting calls from friends and relatives who were worried about a boy or girl who did not do so well in this results. The parents were worried that their kid won't be able to make a good career, or become an IITian or stand on their feet. Though I listened patiently to most of them, to some I retorted, "Are you happy with what you have achieved in your life? Do you want your kid to follow your footsteps or deep within you are too scared that your kid might turn out exactly like you?" The question disturbed a few. Yet all they wanted was that their kid should be able to win one or the other rat race. No one wants to be a parent of a loser. No one wants to lose the rat race of parents.

Now in my early thirties and seeing many of my friends few years older or younger at various junctures of their life, I get confused. I see some who performed way better than I did. Got into a better department at IIT, went to some great University in US, earning money somewhere in Europe and holidaying in Australia and yet when I talk to them, they are worried about money, or family or parents or kids. I also see some of my friends who never made it to any great institution or achieved anything remarkable and yet appears as totally relaxed and full of joy when playing with his/her few months old baby.

Through out our childhood, we were told that success will make you happy. I topped my boards exam and my parents distributed sweets inthe entire neighbourhood. I was happy. I cleared JEE and the same thing happened. I worked in an MNC and earned good money. But my parents couldn't appreciate my job as they wanted me to become an IAS. Few years later I cleared the Civil Services exam and my parents were happy. I was happy too. And I was convinced that success has brought that happiness. I never realized how my parents happiness was related to mine. Then one day, my father had a stroke and when he was in ICU, he failed to recognize those newspaper clippings which featured my IAS story. The doctors said that he might take a while to recall everything. In a moment, my success seemed futile to me. I was no longer happy for my achievements. Months later, my father gained back most of his memories though he never spoke again. But when he showed signs that he remembers my success, I was happy again.

Trauma teaches us the value of having something. It also taught me that the happiness did not come from the success. It came from watching my parents happy. As social beings all our happiness is derived via a reference group. Either we want to be like our reference group or persons or we want to achieve standards set by the reference group. For my bihari parents, becoming an IAS was an achievement for they are from Bihar but working in US would not have made any sense for them. For my friends in the MNC, buying a Honda CRV or a Skoda was achievement, but being a small town boy, I had no clue which is a better car and hence no car gave me a sense of achievement.

All of us spend most of our lifetime running one or the other rat race and trying to win it. We don't realize that our choice of the rat race depends on our choice of the reference group. And after winning one rat race, we gear up for the next, not realizing that even if you win a rat race, youare still a rat. The solution is not in winning a rat race, but in opting out of it.

Sunday, August 31, 2014

माँ अब भी रो ही देती है

न मैं छोटा बच्चा हूँ
न कोई अकल का कच्चा हूँ
पर फिर भी चोट लगे मुझको तो
माँ अब भी रो ही देती है।

बरसों से बाहर हूँ घर से
छुट्टी ले आता हूँ घर पे
कितनी बार हो चुका विदा पर
माँ अब भी रो ही देती है।

अब न मैं दु:ख बतलाता हूँ
न मैं दिल के हाल बताता
रहता हूँ खामोश मगर क्यूँ
माँ अब भी रो ही देती है।

गोद में सर अब भी रख लूँ
तो माँ का मुख खिल उठता है
चेहरे पर होती मुस्कान पर
माँ तब भी रो ही देती है।

Friday, July 25, 2014

जो चाहा तुम्हें

जो चाहा तुम्हें तो क्या कसूर मेरा
मैं क्या जानता था कि पत्थर हो तुम
मैंने तो सब कुछ लुटा डाला तुम पर
क्या करूँ जो बेपरवाह हो तुम

न माँगा तुमसे कभी कुछ
न अब कुछ चाहता हूँ
सुकूँ से जान दे पाऊँ
यही बस माँगता हूँ

न दे पाओ ये भी
तो बस एहसान करना
मेरी मय्यत में तुम
इनकार करना

कि मैं तेरा ही कोई  
इक सगा था
यूँ मुँह फेर लेना लाश से  मेरी तुम कि
लगे कोई यूँ ही
बेआसरा था

जो चाहा तुम्हें तो क्या कसूर मेरा
मैं क्या जानता था कि पत्थर हो तुम
मैंने तो सब कुछ लुटा डाला तुम पर
क्या करूँ जो बेपरवाह हो तुम

Sunday, June 22, 2014

ख़ालीपन


लबों पर मुस्कान, आँखों में गीलापन है
सीने में जलन, पर दिल में एक अपनापन है।
ये कैसी याद है तेरी, मेरे साथी?
कि बाहर भीड़, पर अन्दर ख़ालीपन है।

जानता हूँ कि परे हो मेरे छुअन से
दिखते हो पास पर हो दूर कितने मन से
एहसास तो है होने का हम दोनों को एक दूजे का
पर दोनों के मन में एक सूनापन है
ये कैसी याद है तेरी, मेरे साथी?
कि बाहर भीड़ पर अन्दर ख़ालीपन है।

जी चाहता है लपक कर ले लूँ बाहों में तुम्हें
चुरा लूँ जग से और उड़ जाऊँ लेकर तुम्हें
पर कुछ तो है जो रोक रहा है हम दोनों को
वरना दिल में तो दोनों के बेहिसाब पागलपन है।
ये कैसी याद है तेरी, मेरे साथी?
कि बाहर भीड़ पर अन्दर ख़ालीपन है।

उलझे हो तुम भी दुनिया के झमेलों में
खोया हूँ मैं भी बेकार की बातों और मसलों में
न तुम ही निकलते हो इस उलझन से न मुझे ही राह दिखाते हो
ये कैसी बेचैनी, ये कैसा सूखापन है?
ये कैसी याद है तेरी, मेरे साथी?
कि बाहर भीड़, पर अन्दर ख़ालीपन है।

लबों पर मुस्कान, आँखों में गीलापन है
सीने में जलन, पर दिल में एक अपनापन है।
ये कैसी याद है तेरी, मेरे साथी?
कि बाहर भीड़, पर अन्दर ख़ालीपन है।




Friday, May 30, 2014

मोड़ तो आए बहुत

मोड़ तो आए बहुत
हर मोड़ पर मुड़ कर देखा
रास्ता बढ़ता ही जाता था
तेरा इंतज़ार
हर पल
करता ही जाता था

फिर चलते-चलते इक रोज़
थक गया मंज़िल की तलाश में
वहीं इक मोड़ पर तुम आए
कहा तुमने कि दे दूँ साथ अगले मोड़ तक
मैंने उठ कर देखा
अब रास्ते नहीं थे
न कोई मोड़ नज़र आया
न जाने कैसे
जो अब तक मोड़ था
इक राह का बस
तुम्हारे आ जाने से
मंज़िल बन गया।